हैल्लो दोस्तों, आज की हमारी पोस्ट दुख भरी यादों को खुद से दूर करें हैं | इस पोस्ट की मदद से आपको एक सकारात्मक नजरिया देने का प्रयास किया गया हैं | हर बुरे अनुभव का अंत हो जाता हैं, लेकिन आप उन मुश्किल हालातों से कैसे निकल सकते हैं जो आपका निरंतर पीछा कर रहे हैं ? वो कौन से तरीके हैं, जिनके जरिये आप स्वयं में मुश्किल का सामना करने वाली दृढ़ता पैदा कर सकते हैं | उन दुःखद घटनाओं से कैसे बाहर आ सकते हैं, जो आपका पीछा कर रही हैं |

दुख भरी यादों को खुद से दूर करें

(1) आप इस दुनिया मे अकेले दुख नहीं झेल रहे :- दोस्तों, पहले तो यह समझ ले कि दुखद हालात किसी भी रूप में किसी के भी सामने आ सकते हैं | आप इस दुनिया में अकेले नहीं हैं, जिन्होंने दुनिया में कठिन हालातों का सामना किया हैं | लोग हालातों से घबराकर गलत रास्तों का रुख कर लेते हैं, लेकिन अगर आप समझदार हैं, तो आप अपने रास्ते खुद चुन सकते हैं, आप चुनौतीयों को स्वीकार कर उनका सामना कर सकते हैं |

दुख भरी यादों को खुद से दूर करें

दुख भरी यादों को खुद से दूर करें

(2) मुश्किल हालातों से लड़े :-
दोस्तों, मुश्किल हालातों से निकलने के लिए उन लोगों के बारे में सोचे जो ज्यादा मुश्किलों में हैं, जब दुःख की तुलना करेंगे तो आपको लगेगा कि आपकी मुश्किलें दूसरों की तुलना में कम हैं | मिसाल के तौर पर उन सैनिकों के बारे में सोचे जो महीनों दुर्गम स्थानों, परिस्थितियों में अपने परिवार से दूर और मौत के खतरे के ज्यादा पास रहते हैं, इसके बाद भी वह लोग सदैव मुश्किल हालातों से लड़कर देश की सेवा करते हैं |
(3) जो चल रहा हैं, वहीं अच्छा समय हैं :-
दोस्तों, यह मानकर चलें कि जो आज समय चल रहा हैं, वह आपकी लाइफ का सबसे उत्तम समय चल रहा हैं | आज जीवन में अच्छा समय हैं, तो कल बुरा समय आ सकता हैं | दुःख जीवन का एक अंग हैं, पर इसका मतलब यह नहीं हैं, कि आप हमेशा नकारात्मक रहे | अभिप्राय यह हैं, कि जब मुश्किल वक्त आये तो उससे बाहर निकलने का रास्ता बहादुरी से खोजे नकारात्मकता हमें परेशान करती हैं, लेकिन यह जीवन में फोकस बढ़ाती हैं |
(4) मुश्किल हालातों में खुद से सवाल करें :-
दोस्तों, मुश्किल हालात होने पर खुद से कुछ सवाल पुझने चाहिए जैसे – जो मैं कर रहा हूँ, क्या उससे मुझे मदद मिलेगी या कोई नुकसान होगा ? यह सवाल मुश्किल घड़ी से बाहर आने की एक उम्दा रेसिपी हैं | अपने दिमाग को उस दुखद घटना के पीछे दौड़ाने की अपेक्षा अब आगे क्या किया जाय इस पर ध्यान देकर मन को शांत करना चाहिए | क्योंकि चाही कितनी भी बड़ी और प्यारी चीज जो अपने खो दी हैं, चाहे वो आपके जिगर का टुकड़ा ही न हो, किन्तु जब आप उसे खो चुके हैं, तो वह चीज वापस नहीं आने वाली हैं, किन्तु उसका दुःख आपके आगे के अनमोल जीवन बड़ा नुकसान कर सकता हैं | शांत मन से जब आप सोचेंगे और अपनी जिन्दगी में सकारात्मक भाव लाएंगे तो आप अपने दुखों से ऊपर उठ जाएंगे | इससे आप के दुख कम हो जाएंगे और सकारात्मक चीजे आपकी जिंदगी में भर जाएगी |
आज की हमारी पोस्ट 
दुख भरी यादों को खुद से दूर करें हैं, यह पोस्ट आपको अपने दुखों से बाहर निकलने की हिम्मत देती हैं | आप सभी को यह पोस्ट कैसी लगी इसके लिए comment करे, अगर आप को मेरी पोस्ट पसंद आती हैं तो इसे Share करना न भूले और मेरे उत्साह को बढ़ाने मे अपना  महत्वपूर्ण योगदान दे ।
* Recent Post :-

admin

Theroyalhindi.co के सभी content मेरे द्वारा उन लोगो के लिए लिखे गए हैं जिन्हें English समझने में परेशानी होती है, Website पर लिखे गए सारे Contents लिखते समय Content सम्बंधित websites, books, E-tutorial, library आदि की सहायता ली गई है, इस ब्लॉग को बनाने का मुख्य उद्देश्य हिन्दी माध्यम के छात्रों की हर संभव मदद करना है !

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *